वास्तु: घर में पूजा घर बनवाते समय न करें ये गलतियां, भगवान हो जाएंगे नाराज!

0
jambo

वास्तुशास्त्र में मकान निर्माण के समय पूजाघर में दिशाओं के महत्व को विस्तार से बताया गया है. वास्तुशास्त्र में जितना महत्व घर के अन्य भागों का है ठीक उतना ही महत्व पूजाघर का भी है. वास्तु के मुताबिक़, अगर आपने घर में सही दिशा में पूजाघर बनवाया है तो न केवल आपके ऊपर भगवान की असीम कृपा बनी रहेगी बल्कि आपके घर में सकारात्मक ऊर्जा का प्रवाह भी बना रहेगा जिससे कि घर में सौभाग्य आएगा.

लेकिन अगर पूजाघर का वास्तु सही नहीं है तो इस बात में क्यों दोराय नहीं है घर के सदस्यों को कई परेशानियां उठानी पड़ सकती है और कई बार ये घर के सदस्यों की उन्नति में भी बाधक बनती हैं. आइए जानते हैं कि वास्तु शास्त्र के अनुसार कैसा होना चाहिए आपका पूजाघर:

वास्तु शास्त्र के अनुसार, अगर आपने पूजाघर में भगवान को स्थापित किया है तो प्रयास करना चाहिए कि कोई न कोई लगातार घर पर बना रहे. लेकिन अगर किसी कारणवश आपको लंबे समय के लिए बाहर जाना ही पड़ जाता है तो पूजाघर में ताला लगाकर न जाएं.

वास्तु शास्त्र के अनुसार, पूजाघर में प्रयोग हो चुकी वस्तुओं जैसे अगरबत्ती की राख, सूखे फूल न एकत्र करें. ऐसा करने से घर से सकारात्मक ऊर्जा जाती रहती है और नकारात्मक ऊर्जा आकर्षित होती है. साथ ही इससे घर की सुख-शांति और धन-वैभव भी प्रभावित होते हैं.

बाथरूम बनवाते समय इन बातों का रखें ख्याल, नहीं तो आ सकती है बड़ी परेशानी!

बाथरूम के पास ना हो पूजाघर:
वास्तु शास्त्र के अनुसार, कभी भी बाथरूम के पास या इसके सामने पूजाघर का निर्माण नहीं कराना चाहिए. साथ ही कभी भी सीढ़ियों के नीचे भी पूजाघर नहीं बनाना चाहिए.

बेडरूम में न हो पूजाघर:
वास्तु शास्त्र के अनुसार, अपने बेडरूम में पूजाघर नहीं बनवाना चाहिए. बहुत से लोग जगह की कमी के चलते ऐसा करते हैं लेकिन यह पूर्णतः गलत है. ऐसा होने पर परिवार में कलह होती है और घर के सदस्य हमेशा परेशान रहते हैं.

घर में न बनवाएं मंदिर:
वास्तु शास्त्र के अनुसार, घर में या घर के परिसर में कभी भी मंदिर का निर्माण नहीं कराना चाहिए. मंदिर हमेशा घर से बाहर होना चाहिए. हां आप घर में पूजाघर बना कर उसमें भगवान की छोटी-छोटी मूर्तियां स्थापित कर सकते हैं.

Sumo

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More