जम्मू कश्मीर में पर्यटकों की आवाजाही पर रोक हटी, आपका इंतजार कर रहे हैं कश्मीर वाले

0
jambo

श्रीनगर: जम्मू कश्मीर (Jammu Kashmir) की अर्थव्यवस्था की लाइफलाइन पर्यटकों की आवाजाही पर लगी रोक हटा दी गई है. राज्य में अनुच्छेद 370 हटाए जाने के बाद एहतियातन राज्य में पर्यटकों की आवाजाही बंद कर दी गई थी, जिसे एक बार फिर से शुरू किए जाने का फैसला हुआ है. माना जा रहा है कि इस फैसले से राज्य के पर्यटन उद्योग से जुड़े लोगों को एक नई किरण मिली है. जम्मू-कश्मीर के राज्यपाल सत्यपाल मलिक की अध्यक्षता में एक उच्च-स्तरीय सुरक्षा समीक्षा बैठक सोमवार को आयोजित की गई, जिसमें यह निर्णय लिया गया कि इस महीने की 10 तारीख से पर्यटकों से जुड़ी एडवाइजरी को हटा दिया जाएगा. पर्यटन क्षेत्र से जुड़े लोगों ने इस कदम का स्वागत किया है और उम्मीद जताई है कि इस घोषणा के बाद और अधिक पर्यटक घाटी आएंगे.

श्रीनगर आए पर्यटक  मोहम्मद हाफिज  कहते हैं, ‘कश्मीर बहुत ही खूबसूरत है, यहां सब कुछ है. अब यह निर्भर करता है सरकार पर की वह कैसे कश्मीर को प्रमोट करती है, हमें खुशी है कि इस एडवाइजरी को हटा लिया गया है.’

पर्यटन व्यापारियों का कहना है कि उन्हें उम्मीद है कि विंटर पर्यटन भारत और दुनिया भर से लोगों को जम्मू कश्मीर (Jammu Kashmir) और लद्दाख की ओर फिर आकर्षित करेगा. कुछ पर्यटक तो एडवाइजरी के बावजूद राज्य का दौरा करते रहे हैं. ज्यादातर मलेशिया, सिंगापुर और भारत के अन्य हिस्सों से.

राज्यपाल लगभग हर दिन बैठकें कर रहे हैं, लेकिन यह बैठक महत्वपूर्ण थी, क्योंकि इसमें पर्यटन एडवाइजरी के अलावा पब्लिक ट्रांसपोर्ट और स्कूल, कॉलेज के बारे में कई मुद्दों पर चर्चा की गई. पिछले एक सप्ताह से प्रशासन ने राज्य में शांति और माहौल को बेहतर बनाने के लिए कुछ कदम उठाए हैं. पहला कदम राज्य में ब्लॉक डेवलपमेंट काउंसिल चुनावों की घोषणा था, जिसके बाद हिरासत में लिए गए नेताओं फारूक अब्दुल्ला और उनके बेटे उमर अब्दुल्ला से मिलने के लिए नेशनल कॉन्फ्रेंस के प्रतिनिधिमंडल को अनुमति दी गई. सरकार ऐसे कई बड़े कदम आने वाले दिनों में कश्मीर में उठाने वाली है.

Sumo

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More