कश्मीर: JNU छात्रा शहला राशिद ने किया सियासत से संन्यास का ऐलान

0
jambo

दिल्ली के जवाहर लाल नेहरू यूनिवर्सिटी (जेएनयू) छात्रसंघ की पूर्व उपाध्यक्ष शहला राशिद ने सक्रिय राजनीति से संन्यास लेने का ऐलान किया है। जेएनयू की कश्मीरी छात्रा शहला ने एक ट्वीट के जरिए इसकी जानकारी दी है। शहला ने कहा है कि कश्मीर में चुनावी प्रक्रिया में हिस्सा लेना घाटी में केंद्र सरकार के ऐक्शन को सही ठहराना होगा।

शहला राशिद ने ट्वीट में लिखा, ‘कश्मीर में मुख्यधारा की राजनीति से मैं अपने आपको अलग करती हूं। जब केंद्र द्वारा चुनाव का नाटक हो रहा है, ऐसे हालात में चुनावी प्रक्रिया में भागीदारी, कश्मीर में भारत सरकार के उठाए गए कदमों को न्यायोचित ठहराना होगा।’ इससे पहले जम्मू-कश्मीर में अनुच्छेद-370 के प्रावधानों को हटाए जाने के बाद शहला ने कथित तौर पर मानवाधिकार उल्लंघन का आरोप लगाया था। इसको लेकर उनके खिलाफ देशद्रोह का मामला दर्ज हुआ था।

राशिद ने ट्विटर पर सियासत से रिटायरमेंट का ऐलान करते हुए कहा, ‘न्याय के लिए लड़ाई सच बोलने से थोड़ा ज्यादा मांगती है। मेरे खिलाफ कश्मीरी लोगों की आवाज उठाने पर देशद्रोह का केस दर्ज हुआ। लेकिन यह मुझे सच बोलने से नहीं रोक सकेगा। जहां कहीं भी मेरी आवाज जरूरी होगी वहां मैं आवाज उठाऊंगी।’ बता दें कि जम्मू-कश्मीर में 24 अक्टूबर को ब्लॉक डिवेलपमेंट काउंसिल (BDC) के चुनाव होने हैं। नतीजों की घोषणा भी उसी दिन की जाएगी।

शहला राशिद खुद भी कश्मीरी हैं और मूल रूप से श्रीनगर की रहने वाली हैं। पांच अगस्त को आर्टिकल 370 हटने के बाद से ही वह ट्विटर पर सरकार के खिलाफ लगातार सक्रिय रही हैं। अगस्त में शहला ने एक के बाद एक ट्वीट करते हुए कश्मीर में चिंताजनक हालात का दावा किया था। उन्होंने शोपियां में सुरक्षा बलों द्वारा कुछ लोगों को जबरन हिरासत में लेने और उन्हें प्रताड़ित करने का आरोप लगाया था।

सुरक्षा बलों पर लगाए आरोप के साथ ही कश्मीर की स्थिति को लेकर किए उनके ट्वीट पर सेना की ओर से प्रतिक्रिया आई। सेना ने शहला के सारे आरोपों को खारिज करते हुए कहा था कि ये बेबुनियाद और तथ्यहीन दावे हैं, जिनमें कोई सच्चाई नहीं है। सैन्य बलों और प्रशासन का कहना है कि कश्मीर में स्थिति शांतिपूर्ण है और हालात नियंत्रण में हैं।

Sumo

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More